Bekhayali Lyrics – Kabir Singh | बेख़याली में भी तेरा

Bekhayali Song Lyrics
Pic Credit: T-Series (YouTube)

Bekhayali Lyrics from the movie ‘Kabir Singh‘ sung this song by Sachet Tandon, lyrics were penned by Irshad Kamil, and music composed by Sachet-Parampara. Check the lyrics below.

Bekhayali Song Credits

Kabir Singh Movie Released Date – 21st June 2019
Director Sandeep Reddy Vanga
Producers Bhushan Kumar, MuradKhetani, Krishan Kumar & Ashwin Varde
Singer Sachet Tandon
Music Sachet-Parampara
Lyrics Irshad Kamil
Star Cast Shahid Kapoor, Kiara Advani
Music Label

Bekhayali Lyrics in English

Hmm Hm Hmm Mm
Hmm Mm Hmm Mm
Bekhayali Mein Bhi Tera
Hi Khayal Aaye
Kyun Bichadna Hai Jaroori
Ye Sawaal Aaye

Teri Nazdeekiyo
Ki Khushi Behisaab Thi
Hisse Mein Faansle
Bhi Tere Bemisal Aaye

Main Jo Tumse Door Hu
Kyun Door Main Rahu
Tera Guroor Hu, Huhu
Aa Tu Fansla Mita
Tu Khaawb Sa Mila
Kyun Khaawb Thod Du,
Hu Hu Hu Hu Hu
Hu Hu Hu Hu Hooo

Bekhayali Mein Bhi Tera
Hi Khayal Aaye
Kyun Judaai Dhe Gayaa Tu
Ye Sawaal Aaye

Thoda Sa Main Kafaa
Ho Gayaa Apne Aap Se
Thoda Sa Tujhpe Bhi
Bewajah Hi Malaal Aaye

Hai Ye Thadpan… Hai Ye Uljhan
Kaise Jee Lu Bina Tere
Mere Ab Sabse Hai Ann-Ban
Banthe Kyun Ye Khuda Mere Ul-ll
Hu Hu Hu Hu Hu
Hu Hu Hu Hu Hm Hm

Ye Jo Log-Baag Hai
Jungle Ki Aaag Hai
Kyun Aaag Mein Jalu
hu hu hu.

Ye Nakaam Pyar Mein
Khush Hain Haar Mein
In Jaisa Kyun Banu
Hu Hu Hu Hu Hu
Hu Hu Hu Hu Hooo

Raatein Dengi Bathaa
Neendo Mein Teri Hi Baath Hai
Bhoolun Kaise Tujhe
Tu Toh Khayalo Mein Saath Hai

Bekhayali Mein Bhi Tera
Hi Khayal Aaye
Kyun Bichadna Hai Jaroori
Ye Sawaal Aaye

Nazar Ke Aage… Har Ek Manjar
Reth Ki Tarha.. Bikhar Raha Hai
Dard Tumhara.. Badan Mein Mere
Zehar Ki Tarah… Utar Raha Hai

Nazar Ke Aage… Har Ek Manjar
Reth Ki Tarha.. Bikhar Raha Hai
Dard Tumhara.. Badan Mein Mere
Zehar Ki Tarah… Utar Raha Hai

Aa Jamaane Aajma Le Roothta Nahi
Faanslo Se HaunslaYe Toott’tha Nahi
Na Hai Wo Bewafa
Aur Na Main Hu Bewafaa
Wo Meri Aadaton
Ki Tarah Chhoottha Nahi…

Watch बेख़याली में भी तेरा Video Song


Bekhayali Lyrics in Hindi

बेख़याली में भी तेरा ही ख़्याल आये
क्यूँ बिछड़ना है ज़रूरी ये सवाल आये
तेरी नज़दीक़ियों की ख़ुशी बेहिसाब थी
हिस्से में फ़ासले भी तेरे बेमिसाल आये

मैं जो तुमसे दूर हूँ
क्यूँ दूर मैं रहूँ
तेरा ग़ुरूर हूँ

आ तू फ़ासला मिटा
तू ख़्वाब सा मिला
क्यूँ ख़्वाब तोड़ दूँ

बेख़याली में भी तेरा ही ख़्याल आये
क्यूँ जुदाई दे गया तू ये सवाल आये
थोड़ा सा मैं ख़फ़ा हो गया अपने आप से
थोड़ा सा तुझपे भी बेवजह ही मलाल आये

है ये तड़पन… है ये उलझन
कैसे जी लूँ बिना तेरे
मेरी अब सब से है अनबन
बनते क्यूँ ये ख़ुदा मेरे

ये जो लोग-बाग हैं
जंगल की आग हैं
क्यूँ आग में जलूँ?
ये नाकाम प्यार में
ख़ुश हैं हार में
इन जैसा क्यूँ बनूँ

रातें देंगी बता
नीदों में तेरी ही बात है
भूलूं कैसे तुझे
तू तो ख़्यालों में साथ है

बेख़याली में भी तेरा ही ख़्याल आये
क्यूँ बिछड़ना है ज़रूरी ये सवाल आये

नज़र के आगे हर एक मंज़र
रेत की तरह बिखर रहा है
दर्द तुम्हारा बदन में मेरे
ज़हर की तरह उतर रहा है

नज़र के आगे हर एक मंज़र
रेत की तरह बिखर रहा है
दर्द तुम्हारा बदन में मेरे
ज़हर की तरह उतर रहा है

आ ज़माने आज़मा ले रूठता नहीं
फ़ासलों से हौसला ये टूटता नहीं
ना है वो बेवफ़ा और ना मैं हूँ बेवफ़ा
वो मेरी आदतों की तरह छूटता नहीं

Leave a Comment

close