Chali Chali Lyrics चली चली – Thalaivi – Saindhavi Prakash

चली चली हाँ चली
एक नई हवा हूँ मैं
कभी नहीं देखि जो
वो नई दिशा हूँ मैं

चली चली हाँ चली
एक नई हवा हूँ मैं
कभी नहीं देखि जो
वो नई दिशा हूँ मैं

ख्वाब के साथिया
दिल तुझे दे दिया
मैंने जो चाहा वो है किया

चली चली हाँ चली
एक नई हवा हूँ मैं
कभी नहीं देखि जो
वो नई दिशा हूँ मैं

मैंने कभी जो ना कही
बातें वो होठों पे आने लगी
पिछले दिनों से तू मेरी
खामोशियाँ देखो गाने लगी

पाओं से मेरी चलती ज़मीन
ये मैं जो रुकूँ तो रुके
नींदों के बादल है ख्वाब लेकर
पलकों पे मेरी झुके

ख्वाब के साथिया
दिल तुझे दे दिया
मैंने जो चाहा वो है किया.

Chali chali haan chali
Ek nayi hawa hoon main
Kabhi nahi dekhi jo
Woh nayi disha hoon main

Chali chali haan chali
Ek nayi hawa hoon main
Kabhi nahi dekhi jo
Woh nayi disha hoon main

Khwaab ke saathiya
Dil tujhe de diya
Maine jo chaha woh hai kiya

Chali chali haan chali
Ek nayi hawa hoon main
Kabhi nahi dekhi jo
Woh nayi disha hoon main

Maine kabhi jo na kahi
Baatein woh hothon pe aane lagi
Pichle dino se tu meri
Khamoshiyan dekho gaane lagi

Paon se meri chalti zameen
Yeh main jo rukun toh ruke
Nindon ke baadal hai khwaab lekar
Palkon pe meri jhuke

Khwaab ke sathiya
Dil tujhe de diya
Maine jo chaha woh hai kiya.

Leave a Comment