Chand Chand Lyrics – Amit Saini Rohtakiya

Arey kaun sunega gareeban ki batau kisne
Re haal tootey hoye dil ka sunau kisne
Re feel pyar di duvaya karti
Re ghane supne dikhaya karti
Re jaya kardi tu manne khand khand bolke

Re phire gairan aali anguthi ke chumti nagine
Taare din mein dikhagi chand chand bolke
Re phire gairan aali anguthi ke chumti nagine
Taare din mein dikhagi chand chand bolke
Re chand chand bolke

Amit saini rohtakiya!

Arey todgi tu yaari
Nu te jaanu tha main saari
Ek madam ka yaara mein rujhan konni tha
Dhai saal karke ne chhodgi basera
Mera dil koyi kiraye ka makan konni tha

Arey todgi tu yaari
Nu te jaanu tha main saari
Ak madam ka yaara mein rujhaan konni tha
Dhai saal karke ne chhodgi basera
Mera dil koyi kiraye ka makan konni tha

Re saara pabra kinala mare boli
Re teri gairan gelya bangi rangoli
Gayi zindagi mein gama ki tu paand kholke

Re phire gairan aali anguthi ke chumti nagine
Taare din mein dikhagi chand chand bolke
Re phire gairan aali anguthi ke chumti nagine
Taare din mein dikhagi chand chand bolke
Re chand chand bolke

Rohtakiya!

Arey tere karke ne sin cos thete kare yaad
Kade abcd dhang te na aaya kardi
Re tere chakkaran mein lagya re
Main college mein aan
Jab 8 aali bus mein tu aaya kardi

Re tere karke ne sin cos theete kare yaad
Kade abcd dhang te ni aaya kardi
Tere chakara mein lagya re
Main college mein aan
Jab 8 aali bus mein tu aaya kardi

Re rehge kp bintu karde ladayi
Re teri dekhna ni chahnde parchhayi
Gayi bewafai aala makha bandh khol ke

Arey phire gairan aali anguthi ke chumti nagine
Taare din mein dikhagi chand chand bolke
Re phire gairan aali anguthi ke chumti nagine
Taare din mein dikhagi chand chand bolke
Re chand chand bolke

It’s a gr music!

अरे कौन सुनेगा गरीबां की बताऊ किसने
रे हाल टूटे होये दिल का सुनाऊ किसने
रे फील प्यार दी दुवाया करती
रे घने सपने दिखाया करती
रे जाया करदी तू मन्ने खांड खांड बोलके

रे फिरे गैरां आली अंगूठी के चूमती नगीने
तारे दिन में दिखागि चाँद चाँद बोलके
रे फिरे गैरां आली अंगूठी के चूमती नगीने
तारे दिन में दिखागि चाँद चाँद बोलके
रे चाँद चाँद बोलके

अमित सैनी रोहतकिया!

अरे तोड़गी तू यारी
नु ते जानू था मैं सारी
एक मैडम का यारा में रुझान कोंनी था
ढाई साल करके ने छोड़गी बसेरा
मेरा दिल कोई किराये का मकान कोंनी था

अरे तोड़गी तू यारी
नु ते जानू था मैं सारी
एक मैडम का यारा में रुझान कोंनी था
ढाई साल करके ने छोड़गी बसेरा
मेरा दिल कोई किराये का मकान कोंनी था

रे सारा पबरा किनाला मरे बोली
रे तेरी गैरां गेल्या बनगी रंगोली
गयी ज़िंदगी में गमा की तू पांड खोलके

रे फिरे गैरां आली अंगूठी के चूमती नगीने
तारे दिन में दिखागि चाँद चाँद बोलके
रे फिरे गैरां आली अंगूठी के चूमती नगीने
तारे दिन में दिखागि चाँद चाँद बोलके
रे चाँद चाँद बोलके

रोहतकिया!

अरे तेरे करके ने साइन कोस थीटे करे याद
कदे ABCD ढंग ते ना आया करदी
रे तेरे चक्करण में लगया रे
मैं कॉलेज में आन
जब 8 आली बस में तू आया करदी

अरे तेरे करके ने साइन कोस थीटे करे याद
कदे ABCD ढंग ते ना आया करदी
रे तेरे चक्करण में लगया रे
मैं कॉलेज में आन
जब 8 आली बस में तू आया करदी

रे रेह्गे केपी बिंटू करदे लड़ाई
रे तेरी देखना नी चाह्न्दे परछाई
गयी बेवफाई आला मखा बांध खोल के

रे फिरे गैरां आली अंगूठी के चूमती नगीने
तारे दिन में दिखागि चाँद चाँद बोलके
रे फिरे गैरां आली अंगूठी के चूमती नगीने
तारे दिन में दिखागि चाँद चाँद बोलके
रे चाँद चाँद बोलके

इट’स अ जीआर म्यूजिक!

Leave a Comment

close