Ishq Tumpe Aise Lyrics – Bhaven Dhanak, Samira Koppikar

Ishq Tumpe Aise Lyrics

जैसे चाँद को तरसे दिन का कोई तारा
किसी नूर को ढूंढ रहा हो अँधियारा
चाहें नज़र को जैसे एक नज़ारा
साहिल का लेहर बिना हो ना गुज़ारा

तुम ही कहो कहूँ मैं कैसे
आने लगा है इश्क़ तुमपे ऐसे
आने लगा है इश्क़ तुमपे ऐसे
आने लगा है इश्क़ तुमपे ऐसे
आने लगा है इश्क़ तुमपे ऐसे

पैरो के निशान अब तेरे
रास्ते बन रहे है मेरे
बाहों के फेरे ये घेरे
जैसे प्यार की हो लेहरे

रेत ये मांगे बहारा
नज़र जो चाहें नज़ारा
जैसे बे जुबां को लफ्ज़ मिल गये

मांगे वफ़ा को जैसे आवारा
किसी साथ को ढूंढ रहा हो बेसहारा
जैसे जीना चाहें मर के कोई दोबारा
दिल जीत के जैसे खुद को ही कोई हारा

तुम ही कहो कहूँ मैं कैसे
आने लगा है इश्क़ तुमपे ऐसे
आने लगा है इश्क़ तुमपे ऐसे
आने लगा है इश्क़ तुमपे ऐसे
आने लगा है इश्क़ तुमपे ऐसे.

Jaise chand ko tarse din ka koi taara
Kisi noor ko dhoondh raha ho andhiyara
Chaahein nazar ko jaise ek nazara
Saahil ka lehr bina ho na guzara

Tum hi kaho kahoon main kaise
Aane laga hai ishq tumpe aise
Aane laga hai ishq tumpe aise
Aane laga hai ishq tumpe aise
Aane laga hai ishq tumpe aise

Pairon ke nishaan ab tere
Raaste ban rahe hai mere
Baahon ke phere ye ghere
Jaise pyar ki ho lehre

Ret ye maange bahara
Nazar jo chaahein nazara
Jaise be zubaan ko lafz mil gaye

Maange wafa ko jaise awara
Kisi saath ko dhoondh raha ho besahara
Jaise jeena chaahein mar ke koi dobaara
Dil jeet ke jaise khud ko hi koi haara

Tum hi kaho kahoon main kaise
Aane laga hai ishq tumpe aise
Aane laga hai ishq tumpe aise
Aane laga hai ishq tumpe aise
Aane laga hai ishq tumpe aise.

Leave a Comment

close