Kabhi Kabhi Poetry by Nidhi Narwal I FNP Media

Kabhi Kabhi Poetry :- A Very gifted, sensational young poetess Nidhi Narwal come back again with a meaningful poetry which is titled Kabhi Kabhi. This poetry is about the stucking life phases. There are times in life that we do not understand anything and the brain stops working. Everybody turns against you and refuse to understand your things. In such a situation life becomes very difficult and we always start thinking negatively. This poetry has published under the label of Live By FNP Media.

कभी कभी मैं परेशान हो जाती हूं

कलम से लड़ झगड़ कर सो जाती हूं

लिखने का दिल करता है दिल की बातें 

पर दिल तक जाते जाते खो जाती हूं 

कभी कभी समझ नहीं आता कि मैं कहां हूं

कभी कभी यकीन नहीं होता कि मैं यहां हूं

जब ख्वाबों से रक्त धुंधले हुए जाते हैं

तब लगता है कि मैं जो भी हूं बेवजह हूं 

कभी कभी आँखों को फूल नहीं भाते

ज़िन्दगी के ताने बाने समझ नहीं आते

मुस्कुराना बहुत ही भारी काम लगता हैं

पर पलकों से आसूं भी फिसल नहीं पाते

कभी कभी गुस्सा आता है मेरे अयाल पर

सबसे कहती हूं मुझे छोड़ दो मेरे हाल पर 

ज़िन्दगी के कदम बढ़ते तो हैं मेरी तरफ 

मगर फिर वो तमाचे सी पड़ती है गाल पर

कभी कभी मेरे हालात बहुत उलझ जाते हैं

जिम्मेदारी की आग में अरमान झुलस जाते हैं

मैं इस तरह दूर करने लग जाती हूं खुद को खुद से 

कि मुझसे कागज कलम मिलने को तरस जाते है

कभी कभी लगता है कि मैं कुछ कर नहीं सकती

मानो सांसें भी खुद से मैं भर नहीं सकती

पुकार लगाती रहती हूं केवल अपने अंत को 

पर वो सामने भी हो खड़ा तो मैं मर नहीं सकती 

कभी कभी उम्मीद कंधो पर बोझ लगती है जैसे वो लाश हो

कभी कभी अपनों की हंसी नमकीन लगती है मेरे घाव पर 

आंखों को सिवाय मेरी तबाही के और कुछ नहीं दिखता

मेरी तबाही वाकई बड़ी हसीन लगती है

कभी कभी लगता है कि मैं इस जहान से जंग में हूं 

और हथियार डाल चुकी हूं इतनी तंग मैं हूं 

इतने रंग उड़ेले हैं लोगों ने मुझ पर आज तलक 

कि अब लगता है इस दुनिया में सबसे बेरंग मैं हूं 

सबसे बेरंग मैं हूं….!

Written By:

Nidhi Narwal

Kabhi Kabhi Poetry Video


Leave a Comment