Kalabaaziyan Lyrics – Aditya Kalway

अकेला
वो सड़क के किनारे खड़ा बेचता
झुके ना
इक लड़कपन उसे जो कभी ना मिला

घर मेरा कहाँ
बस यही कहे
पेट भर सकूँ
इ्सलिए कर रहा
कलाबाज़ियाँ, कलाबाज़ियाँ
कलाबाज़ियाँ, कलाबाज़ियाँ

हम आज फिर चल पड़े है
देखे बिना कीन्न अँधेरों की ओर
दिन है वही है वही लोग
देखे ना मुड़कर कभी मेरी ओर

है बिखर रहा
बस नहीं कहे
एक बन सकूँ
इस लिये कर रहा
कलाबाज़ियाँ, कलाबाज़ियाँ

खुशी ने है फिर भी उसे
कहीं से ढूंढ लिया
भले किस्मतों ने उसे
भरी राह छोड़ दिया

वो चले जहां रुके
वहाँ…
मसखरी करे
गिर संभल के भी
मस्तियों में कर रहा
कलाबाज़ियाँ, कलाबाज़ियाँ
कलाबाज़ियाँ, कलाबाज़ियाँ.

Akela
Woh sadak ke kinare khada bechta
Jhuke na
Ik ladakpan usse jo kabhi na mila

Ghar mera kahan
Bas yahi kahe
Pet bhar sakun
Issliye kar raha
Kalabaaziyan kalabaaziyan
Kalabaaziyan kalabaaziyan

Hum aaj phir chal pade hain
Dekhe bina kinn andheron ki ore
Din hai wahi hain wahi log
Dekhe na mudkar kabhi meri ore

Hai bikhar raha
Bas nahi kahe
Ek bann sakun
Issliye kar raha
Kalabaaziyan kalabaaziyan

Khushi ne hai phir bhi use
Kahin se dhoondh liya
Bhale kismaton ne use
Bhari raah chhod diya

Woh chale jahan ruke
Wahan
Maskhari kare
Gir sambhal ke bhi
Mastiyon mein kar raha
Kalabaaziyan kalabaaziyan
Kalabaaziyan kalabaaziyan.

Source link

Leave a Comment

close