Khaab Lyrics – Anshul Seth

तू है रात मैं खाब सी हूँ
तू ग़ज़ल सा मैं साज़ सी हूँ
तेरे मन की आवाज़ मैं हूँ
तेरी रूह की आवाज़ भी हूँ

तू है रास्ता मेरे सफर का
मैं तेरे साथ ही में चलू
हर सुबह शाम हो तेरे नाम
हो जिसमे तुझे देखा करूँ

तू मेरा आसमान
तू मेरी ज़मीन है
तू मिल जाये क्यूँ
तू मिलता नहीं है

तू मेरा आसमान
तू मेरी ज़मीन है

देहलीज़ पे तेरी बैठी रहूँ
सोचा तुझे ही करूँ
मन्नत जो मांगू खुदा से कभी
माँगा तुझे ही करूँ

अब तेरी राह से
दूर जाना मुमकिन नहीं

तू लेहेर है मैं रेत सी हूँ
तेरे साथ बेहती चलूंगी
तू है चाँद मैं चांदनी हूँ
रहे जबतक तू मैं रहूंगी

तेरी आँखों के आशियाँ में कहीं
घर हो तेरा मेरा
जहाँ तू रहे मैं रहूंगी वहीँ
मानूंगी केहना तेरा

साथ लेके ख़ुशी
आउंगी तेरी गली

तू हसीं मैं मेहमान सी हूँ
बस तेरी पेहचान सी हूँ
तेरे दिल का अरमान सी हूँ
बस खुद से अनजान सी हूँ

तू है रास्ता मेरे सफर का
मैं तेरे साथ ही में चलु
हर सुबह शाम हो तेरे नाम
हो जिसमे तुझे देखा करूँ

तू मेरा आसमान
तू मेरी ज़मीन है
तू मिल जाये क्यूँ
तू मिलता नहीं है

तू मेरा आसमान
तू मेरी ज़मीन है

वो लगता है एक खूबसूरत खाब सा
जाने किस मोड पे तसव्वुर होगा.

Tu hai raat main khaab si hoon
Tu ghazal sa main saaz si hoon
Tere mann ki awaaz main hoon
Teri rooh ki awaaz bhi hoon

Tu hai raasta mere safar ka
Main tere sath hi mein chalu
Har subah sham ho tere naam
Ho jisme tujhe dekha karun

Tu mera aasmaan
Tu meri zameen hai
Tu mil jaaye kyun
Tu milta nahi hai

Tu mera aasmaan
Tu meri zameen hai

Dehleez pe teri baithi rahoon
Socha tujhe hi karoon
Mannat jo mangu khuda se kabhi
Manga tujhe hi karoon

Ab teri raah se
Door jaana mumkin nahi

Tu leher hai main ret si hoon
Tere sath behti chalungi
Tu hai chand main chandni hoon
Rahe jabtak tu main rahungi

Teri aankhon ke aashiyan mein kahin
Ghar ho tera mera
Jahan tu rahe main rahungi wahin
Manungi kehna tera

Sath leke khushi
Aaungi teri gali

Tu haseen main mehmaan si hoon
Bas teri pehchan si hoon
Tere dil ka armaan si hoon
Bas khud se anjaan si hoon

Tu hai raasta mere safar ka
Main tere sath hi mein chalu
Har subah sham ho tere naam
Ho jisme tujhe dekha karoon

Tu mera aasmaan
Tu meri zameen hai
Tu mil jaaye kyun
Tu milta nahi hai

Tu mera aasmaan
Tu meri zameen hai

Woh lagata hai ek khoobsurat khaab sa
Jane kiss mod pe tasavvur hoga.

Source link

Leave a Comment

close