Khwabeeda Lyrics – Anurag Mohn

सपनों में ज्यादा
हक़ीक़त में कम
दिल करे बातें बस तेरा

देखा तुझे जब मैं
हुआ बेज़ुबान
जाने ऐसा क्या असर हुआ

मेरी ये रातें अब तेरे सहारे
ना बीते कभी तू तो आदत हो गयी

ख्वाबीदा, ख्वाबीदा
तेरा जिस्म लगे
ख्वाबीदा, ख्वाबीदा
हर सांस लगे

तेरी निगाहों में
लगता इन बाहों में
मेरा ये सारा जग तेरा ही तो है

ख्वाबीदा, ख्वाबीदा
हर सांस लगे
ख्वाबीदा, ख्वाबीदा
तेरा नूर लगे

तेरे बिना है हम बेसहारे
केह दे ज़रा तू है हम तुम्हारे
एक रेहनुमा सा बनके मेरा तू
ले चल इस दिल को जन्नत बना ले

तेरे जहां में
मुझको ज़रा सी जगाह दे
लफ्जों से ज़्यादा
अपने लबों से बता दे, सज़ा दे
लम्हे मेरे

तेरे जहां में
मुझको ज़रा सी जगाह दे
लफ्जों से ज़्यादा
अपने लबों से बता से, सज़ा दे
लम्हे मेरे

ख्वाबीदा, ख्वाबीदा
तेरा जिस्म लगे
ख्वाबीदा, ख्वाबीदा
हर सांस लगे

तेरी निगाहों में
लगता इन बाहों में
मेरा ये सारा जग तेरा ही तो है.

Sapno mein zyada
Haqeeqat mein kam
Dil kare baatein bas tera

Dekha tujhe jab main
Hua bezubaan
Jane aisa kya asar hua

Meri ye raatein ab tere sahare
Na bite kabhi tu to aadat ho gayi

Khwabeeda, khwabeeda
Tera jism lage
Khwabeeda, khwabeeda
Har saans lage

Teri nigaahon mein
Lagta in bahon mein
Mera ye sara jag tera hi to hai

Khwabeeda, khwabeeda
Har saans lage
Khwabeeda, khwabeeda
Tera noor lage

Tere bina hai hum besahare
Keh de zara tu hai hum tumhare
Ik rehnuma sa banke mera tu
Le chal is dil ko jannat bana le

Tere jahan mein
Mujhko zara si jagah de
Lafzon se zyada
Apne labon se bata de, saza de
Lamhe mere

Tere jahan mein
Mujhko zara si jagah de
Lafzon se zyada
Apne labon se bata de, saza de
Lamhe mere

Khwabeeda, khwabeeda
Tera jism lage
Khwabeeda, khwabeeda
Har saans lage

Teri nigaahon mein
Lagta in bahon mein
Mera ye sara jag tera hi to hai.

Source link

Leave a Comment

close