Kitna Maza Hai Lyrics | Altaaf Sayyed

 

Song Title – Kitna Maza Hai
Director – Ravi Sharma
Starring – Dharma Keerthiraj, Nagma Akhtar, Rahul Chauhan, Altaaf Sayyed
Music – Altaaf Sayyed
Singer – Altaaf Sayyed
Lyricist – Altaaf Sayyed
Music Label – Songs Basket

Bejaan khwahishon mein

Bharke zara si jaan

In chahaton ko zinda

Tune hai kar diya

Soyi si dhadkano ko

Di hai nayi subha

Saanson ko tune chhu ke

Jannat kiya jahaan

Tere ishq ki dil ko

Lagi aisi hawa hai

Na puchh ke aaya

Mujhe kitna maza hai

Bin baarish bheege

Mere jism-o-jaan hai

Na puchh ke aaya

Mujhe kitna maza hai

Har dua ab tujhse judi hai

Teri hi galliyon mein mudi hai

Raaston mein tere khadi hai

Manzilein meri

Mujhpe to dhun teri chadhi hai

Chahatein har baar badhi hai

Dekhti hai jab jab tujhko

Aankhein meri

Yeh jo baat hui hai

Yeh jo haal hua hai

Na puchh ke aaya

Mujhe kitna maza hai

Bin baarish bheege

Mere jism-o-jaan hai

Na puchh ke aaya

Mujhe kitna maza hai

Tu mere jazbaat ki zid hai

Sirf tere saath ki zid hai

Aur na kisi baat ki zid hai

Dil ko mere

Sang tere apna sa lagun main

Tu na ho to ghair dikhun main

Sochna chahun na khudko

Main bin tere

Mujhe tune yun jo

Pagal sa kiya hai

Na puchh ke aaya

Mujhe kitna maza hai

Bin baarish bheege

Mere jism-o-jaan hai

Na puchh ke aaya

Mujhe kitna maza hai

Dil ke banjar sheher mein

Baharon ki faza abhi aur baaki hai

Jhuthi wafaaon ka khumar to kabka utar chuka

Sachhe ishq ka maza abhi aur baaki hai

बेजान ख्वाहिशों में

भरके ज़रा सी जान

इन चाहतों को ज़िंदा

तूने है कर दिया

सोई सी धड़कनो को

दी है नयी सुबह

साँसों को तूने छू के

जन्नत किया जहाँ

तेरे इश्क़ की दिल को

लगी ऐसी हवा है

ना पूछ के आया

मुझे कितना मज़ा है

बिन बारिश भीगे

मेरे जिस्म-ओ-जान है

ना पूछ के आया

मुझे कितना मज़ा है

हर दुआ अब तुझसे जुड़ी है

तेरी ही गलियों में मुड़ी है

रास्तों में तेरे खड़ी है

मंज़िलें मेरी

मुझपे तो धुन तेरी चढ़ी है

चाहतें हर बार बढ़ी है

देखती है जब जब तुझको

आँखें मेरी

ये जो बात हुई है

ये जो हाल हुआ है

ना पूछ के आया

मुझे कितना मज़ा है

बिन बारिश भीगे

मेरे जिस्म-ओ-जान है

ना पूछ के आया

मुझे कितना मज़ा है

तू मेरे जज़्बात की ज़िद है

सिर्फ तेरे साथ की ज़िद है

और ना किसी बात की ज़िद है

दिल को मेरे

संग तेरे अपना सा लागूं मैं

तू ना हो तो ग़ैर दिखूँ मैं

सोचना चाहूँ ना ख़ुदको

मैं बिन तेरे

मुझे तूने यूँ जो

पागल सा किया है

ना पूछ के आया

मुझे कितना मज़ा है

बिन बारिश भीगे

मेरे जिस्म-ओ-जान है

ना पूछ के आया

मुझे कितना मज़ा है

दिल के बंजर शहर में

बहारों की फ़ज़ा अभी और बाकी है

झूठी वफाओं का खुमार तो कबका उतर चूका

सच्चे इश्क का मज़ा अभी और बाकी है

Leave a Comment

close