Kuch Baatein Song Lyrics in Hindi & English – Jubin Nautiyal & Payal Dev

Kuch Baatein Song Lyrics
Pic Credit: T-Series (YouTube)

Kuch Baatein Song Lyrics penned by Kunaal Vermaa, music composed by Payal Dev, and sung by Jubin Nautiyal & Payal Dev.

Kuch Baatein Song Credits

Kuch Baatein Song Lyrics in English

Maana Hum Yahan Hai
Dil Magar Wahaan Hai
Baadi Door Humse
Humsafar Mera Hai

Banke Hawa
Aa Bhi Jaun Main Lekin
Nahi Janti Uske
Dil Me Hai Kyaa

Kuchh Baatein Hai Kehni Unse
Chah Ke Bhi Nahi Keh Paate Hai
Joh Mere Dil Me Hai… Uske Hai Ya Nahi
Soch Kar Har Daafa Ghabrate Hai
Kuchh Baatein Hai Kehni Unse
Chah Ke Bhi Nahi Keh Paate Hai

Saath Tera Humein
Har Kadam Chahiye
Zindagi Me Humein
Sirf Tum Chahiye

Isse Zyada Humein
Kuch Nahi Chaahiye
Aarzoo Hai Yahi
Mere Ban Jaiye
Tumhe Maante Hai
Khuda Se Bhi Zyada
Humari Nazar Se
Kabhi Dekhna

Kuch Baatein Hai Kehni Unse
Chah Ke Bhi Nahi Keh Paate Hai
Joh Mere Dil Me Hai Uske Hai Ya Nahi
Soch Kar Har Dafa Ghabraate Hai

Sham Woh Aakhri… Yaad Hai Aaj Bhi
Hoke Hum Tum Juda… Phir Mile Naa Kabhi
Dil Yeh Kehta Raha… Roklo Tum Humein
Tumne Jaate Huye… Kuch Kaha Hi Nahi
Aankho Me Nahi Ek Aanshu Magar
Dil Me Kitni Barsaate Hai

Jaa Rahe Hai Sanam
Mehfilon Se Teri
Pyaar Tera Yahin
Chhod Jaate Hai

Yeh Dobara Kabhi
Aankhon Me Naa Chubhe
Khwaab Tere Sabhi Tod Jaake Hai

Kuch Baatein Hai Kehni Unse
Chah Ke Bhi Nahi Keh Paate Hai
Joh Mere Dil Me Hai Uske Hai Ya Nahi
Soch Kar Har Daafa Ghabrate Hai

Watch कुछ बातें हैं Video Song


Kuch Baatein Song Lyrics in Hindi

मान हम यहां है
दिल मगर वहन है
बड़ी दूर हमसे
हमसफ़र मेरा है

बांके हवा
आ भी जाऊं मैं लेकिन
नहीं जनता उसके
दिल में है क्या

कुछ बातें हैं कहना उनसे
चाह के भी नहीं कह पाते हैं
जो मेरे दिल में है उसके है या नहीं
सोच कर हर दाफा घबराते है
कुछ बातें हैं कहना उनसे
चाह के भी नहीं कह पाते हैं

साथ तेरा हमें… हर कदम चाहिए
जिंदगी में हमें… सिर्फ तुम चाहिए

इस्से ज्यादा हमें… कुछ नहीं चाहिए
आरज़ू है यही… मेरे बन जाए
तुम्हे मानते है… खुदा से भी ज्यादा
हमारी नज़र से कभी देखना

कुछ बातें हैं कहना उनसे
चाह के भी नहीं कह पाते हैं
जो मेरे दिल में है उसके है या नहीं
सोच कर हर दफा घबराते है

शाम वो आखिरी… याद है आज भी
होके हम तुम जुड़ा फिर मिले ना कभी
दिल ये कहता रहा… रोकलो तुम हमें
तुमने जाते हुए… कुछ कहा ही नहीं

आँखो में नहीं एक अंशु मगरी
दिल में कितनी बरसाते हैं
जा रहे हैं सनम… महफिलों से तेरी
प्यार तेरा यहीं… छोड़ जाते हैं

ये दोबारा कभी
आंख में ना चुभे
ख़्वाब तेरे सभी तोड़ जाके हैं

कुछ बातें हैं कहना उनसे
चाह के भी नहीं कह पाते हैं
जो मेरे दिल में है उसके है या नहीं
सोच कर हर दाफा घबराते है

Leave a Comment