Pehli Si Muhabbat (OST) Lyrics – Ali Zafar

तेरे संग गुजरे मेरे जो लम्हे
तुम से वो मांगु
मैं तलबगार हूँ
तुमसे थोड़ी मोहलत मांगु

तू वही मैं वोही
है मगर बेबसी
ज़िंदगी को गवारा
अब कैसे करे

दिल के दरवाजे पे
फिर से तेरी दस्तक मांगु
तुझसे ही फिर अपनी
पेहली सी मोहब्बत मांगु

वो चाह जो हम में थी
फिर से वोही चाहत मांगु
तुझसे ही फिर अपनी
पेहली सी मोहब्बत मांगु

तनहाई में मर जाएँ
क्या फिर आओगे
इस तरहा से क्या हरपल
तुम तड़पाओगे

गैर की तरहा से
ये तकलुफ़्फ़ कैसा
ये मूरवत्त है कैसी
ये तारुफ़्फ़ कैसा

मैं ने अपने ही हाथों से
गवाया है तुझे
आशना कोई और अब भाया है तुझे

दिल के दरवाजे पे
फिर से तेरी दस्तक मांगु
तुझसे ही फिर अपनी
पेहली सी मोहब्बत मांगु

वो चाह जो हम में थी
फिर से वोही चाहत मांगु
तुझसे ही फिर अपनी
पेहली सी मोहब्बत मांगु

हम्म, हम्म

यार, यार
यार, यार

दिल के दरवाजे पे
फिर से तेरी दस्तक मांगु
तुझसे ही फिर अपनी
पेहली सी मोहब्बत मांगु

वो चाह जो हम में थी
फिर से वोही चाहत मांगु
तुझसे ही फिर अपनी
पेहली सी मोहब्बत मांगु.

Tere sang guzre mere jo lamhe
Tum se woh mangu
Main talabgar hoon
Tum se thodi mohlat mangu

Tu wahi main wohi
Hai magar bebasi
Zindagi ko gawara
Ab kaise kare

Dil ke darwaze pe
Phir se teri dastak mangu
Tujh se hi phir apni
Pehli si muhabbat mangu

Woh chah jo hum mein thi
Phir se wohi chahat mangu
Tujh se hi phir apni
Pehli si muhabbat mangu

Tanhaai mein mar jayein
Kya phir aaoge
Is tarha se kya harpal
Tum tadpaoge

Gair ki tarha se
Ye takaluf kaisa
Ye muravatt hai kaisi
Ye taaruff kaisa

Main ne apne hi hathon se
Gawaya hai tujhe
Ashna koi aur aab bhaya hai tujhe

Dil ke darwaze pe
Phir se teri dastak mangu
Tujh se hi phir apni
Pehli si muhabbat mangu

Woh chah jo hum mein thi
Phir se wohi chahat mangu
Tujh se hi phir apni
Pehli si muhabbat mangu

Hmmmm, hmmmm

Yaar, yaar
Yaar, yaar

Dil ke darwaze pe
Phir se teri dastak mangu
Tujh se hi phir apni
Pehli si muhabbat mangu

Woh chah jo hum mein thi
Phir se wohi chahat mangu
Tujh se hi phir apni
Pehli si muhabbat mangu.

Source link

Leave a Comment

close