Rabba Mera Yaar Lyrics- Sakshi – Swaroop Khan

हूँ मैं भटकता फिर रहा
इक दिल था मेरा गिर गया
खिज़ाएं ग़म की आ गयी मेरे खुदा

है वो नहीं तो मैं नहीं
जीने का मतलब है नहीं
जाया है अब तो हर ख़ुशी मेरे खुदा

ओ रब्बा मेरा यार मिला दे
वे सच्चेया तू प्यार दिला दे
हैं फासले ये जो भी अब तू मिटा दे

ओ रब्बा मेरा यार मिला दे
वे सच्चेया तू प्यार दिला दे
हैं फासले ये जो भी अब तू मिटा दे

रब्बा मेरा यार मिला दे.. ए..

चाहत मेरी है वही
उस चाहत को अंजाम दे
फिर लकीरें लिख नयी तू
मेरी उसके नाम से

आ.. चाहत मेरी है वही
उस चाहत को अंजाम दे
फिर लकीरें लिख नयी तू
मेरी उसके नाम से

बता किस काम की
रिवायत है तेरी
जो तू ना दे सके
मोहब्बत भी मेरी..

ओ रब्बा मेरा यार मिला दे
वे सच्चेया तू प्यार दिला दे
हैं फासले ये जो भी अब तू मिटा दे

ओ रब्बा मेरा यार मिला दे
वे सच्चेया तू प्यार दिला दे
हैं फासले ये जो भी अब तू मिटा दे

परवाह नहीं मुझे मंज़िलों की
राहें चाहे छीन ले
सब कुछ खो के एक मुझको
काफी है अगर वो मिले
है जायज़ तो नहीं तेरी नाराज़गी
तेरा यूं रूठना नहीं है लाज़मी

ओ रब्बा मेरा यार मिला दे
वे सच्चेया तू प्यार दिला दे
हैं फासले ये जो भी अब तू मिटा दे

ओ रब्बा मेरा यार मिला दे
वे सच्चेया तू प्यार दिला दे
हैं फासले ये जो भी अब तू मिटा दे..!

Hoon main bhatakta phir raha
Ik dil tha mera gir gaya
Khizaayein gham ki aa gayi mere khuda

Hai woh nahin toh main nahin
Jeene ka matlab hai nahin
Zaya hai ab to har khushi mere khuda

O rabba mera yaar mila de
Ve saccheya tu pyaar dila de
Hain faasle yeh jo bhi ab tu mita de

O rabba mera yaar mila de
Ve saccheya tu pyaar dila de
Hain faasle yeh jo bhi ab tu mita de

Rabba mera yaar milaade.. E..

Chaahat meri hai wahi
Uss chaahat ko anjaam de
Phir lakeerein likh nayi tu
Meri uske naam se

Aa.. Chaahat meri hai wahi
Uss chaahat ko anjaam de
Phir lakeerein likh nayi tu
Meri uske naam se

Bata kis kaam ki
Riwayat hai teri
Jo tu na de sake
Mohabbat bhi meri..

O rabba mera yaar mila de
Ve saccheya tu pyaar dila de
Hain faasle yeh jo bhi ab tu mita de

O rabba mera yaar mila de
Ve saccheya tu pyaar dila de
Hain faasle yeh jo bhi ab tu mita de

Parwaah nahin mujhe manzilon ki
Raahein chaahe cheen le
Sab kuch kho ke ek mujh ko
Kaafi hai agar woh mile
Hai jaayaz toh nahin teri naraazgi
Tera yoon ruthna nahin hai laazmi

O rabba mera yaar mila de
Ve saccheya tu pyaar dila de
Hain faasle yeh jo bhi ab tu mita de

O rabba mera yaar mila de
Ve saccheya tu pyaar dila de
Hain faasle yeh jo bhi ab tu mita de..!

Source link

Leave a Comment

close