Saans Lyrics – Kevy Chahal – Ft. Kevy Chahal

सांस लेने में तकलीफ क्यूँ हो रही है
ना जाने मेरी किस्मत कब से सो रही है
और कितना करूँ सबर मैं
जीत की ना कोई खबर है

सांस लेने में तकलीफ क्यूँ हो रही है
ना जाने मेरी किस्मत कब से सो रही है
और कितना करूँ सबर मैं
जीत की ना कोई खबर है

जीता था मैं खुल के
अब कैदी सा हो रहा हूँ
खुले दरवाज़ों पे मैं खड़ा
मान पिंजरों में सो रहा हूँ
किस्मत को ताने देके
काइ को रो रहा हूँ..

कॉम्पटीशन की दुनिया में
हर रोज़ फ्लॉप हो रहा हूँ
इसी का नाम जीना है
जीने में हमारी ख्वाहिशें
ज़्यादा हो रहीं हैं

सांस लेने में
तकलीफ कहे को हो रही है
येह.. तकलीफ काइ को हो रही है
हाँ.. तकलीफ काइ को हो रही है
तकलीफ काइ को हो रही है
तकलीफ काइ को हो रही है

सांस लेने में तकलीफ क्यूँ हो रही है
ना जाने मेरी किस्मत कब से सो रही है
और कितना करूँ सबर मैं
जीत की ना कोई खबर है

सांस लेने में तकलीफ क्यूँ हो रही है
ना जाने मेरी किस्मत कब से सो रही है
और कितना करूँ सबर मैं
जीत की ना कोई खबर है

नाम सीतासि भीड़ में
खुद का नाम खो रहा
अमृतसर का लड़का था
मुम्बईकर सा हो रहा है
नाम बनाने आया था
बे नाम सा हो रहा
पैदल ही चलते चलते
गलियों से दोस्ती हो रही हैं

यहाँ लोग रोड पे सोते हैं
और कुत्तों की गाड़ियों में
सेवा हो रही है, सेवा हो रही है
सांस लेने में
तकलीफ काइ को हो रही है

सांस लेने में तकलीफ क्यूँ हो रही है
ना जाने मेरी किस्मत कब से सो रही है
और कितना करूँ सबर मैं
जीत की ना कोई खबर है

सांस लेने में तकलीफ क्यूँ हो रही है
ना जाने मेरी किस्मत कब से सो रही है
और कितना करूँ सबर मैं
जीत की ना कोई खबर है

खुल के रोना जैसे सपना सा हो रहा है
पलकों के पीछे आंसुओं का समुंद सो रहा है
कुछ हो रहा है
अब बेचैन दिल को केहना भी चाहूँ
पर कैसे बदलूँ फितरत को

चार दिवाली से ज्यादा
टाइम बिताया है सड़कों पे
इंसानों के विचार देखो
ना जाओ उनके कपड़ो पे
इंशॉफ के लफड़ों पे

बिन बोले कुछ दुःख दर्द
सेह चुप चुप रो रही है ना
रो रही है ना
सब खिलाती है हमे फिर भी खुद
भूखी सो रही है माँ, सो रही है माँ

सांस लेने में तकलीफ क्यूँ हो रही है
ना जाने मेरी किस्मत कब से सो रही है
और कितना करूँ सबर मैं
जीत की ना कोई खबर है

सांस लेने में तकलीफ क्यूँ हो रही है
ना जाने मेरी किस्मत कब से सो रही है
और कितना करूँ सबर मैं
जीत की ना कोई खबर है..!

Saans lene mein
Takleef kyun ho rahi hai
Na jaane meri kismat
Kab se so rahi hai
Aur kitna karun sabar main
Jeet ki na koi khabar hai

Saans lene mein
Takleef kyun ho rahi hai
Na jaane meri kismat
Kab se so rahi hai
Aur kitna karun sabar main
Jeet ki na koi khabar hai

Jeeta tha main khul ke
Ab kaidi sa ho raha hoon
Khule darwaazon pe main khada
Maan pinzron mein so raha hoon
Kismat ko taane deke
Kaai ko ro raha hoon

Comptition ki duniya mein
Har roz flop ho raha hoon
Isi ka naam jeena hai
Jeene mein humari khwahishein
Zyada ho rahin hai

Saans lene mein
Takleef kaai ko ho rahi hai
Yeh..takleef kaai ko ho rahi hai
Haan..takleef kaai ko ho rahi hai
Takleef kaai ko ho rahi hai
Takleef kaai ko ho rahi hai

Saans lene mein takleef
Kyun ho rahi hai
Na jaane meri kismat
Kab se so rahi hai
Aur kitna karun sabar main
Jeet ki na koi khabar hai

Saans lene mein takleef
Kyun ho rahi hai
Na jaane meri kismat
Kab se so rahi hai
Aur kitna karun sabar main
Jeet ki na koi khabar hai

Naam sitasi bheed mein
Khud ka naam kho raha
Amritsar ka ladka tha
Mumbaikar sa ho raha
Naam banane aya tha
Be naam sa ho raha
Paidal hi chalte chalte
Galliyon se dosti ho rahi hai

Yahaan log rod pe sote hain
Aur kutton ki gaadiyon mein
Seva ho rahi hai, seva ho rahi hai
Saans lene mein
Takleef kaai ko ho rahi hai

Saans lene mein takleef
Kyun ho rahi hai
Na jaane meri kismat
Kab se so rahi hai
Aur kitna karun sabar main
Jeet ki na koi khabar hai

Saans lene mein takleef
Kyun ho rahi hai
Na jaane meri kismat
Kab se so rahi hai
Aur kitna karun sabar main
Jeet ki na koi khabar hai

Khul ke rona jaise
Sapna sa ho raha hai
Palkon ke piche aansuon ka
Smund so raha hai
Kuch ho raha hai
Ab bechain dil ko kehna bhi chaahun
Par kaise badloon fitrat ko

Chaar diwali se jyada
Time bitaya hai sadkon pe
Insaano ke vichaar dekho
Na jaao unke kapdo pe
Inshauf ke lafdon pe

Bin bole kuch dukh dard
Seh chup chup ro rahi hai na
Ro rahi hai na
Sab khilati hai hume phir bhi khud
Bhookhi so rahi hai maa,
So rahi hai maa

Saans lene mein
Takleef kyun ho rahi hai
Na jaane meri kismat
Kab se so rahi hai
Aur kitna karun sabar main
Jeet ki na koi khabar hai

Saans lene mein takleef
Kyun ho rahi hai
Na jaane meri kismat
Kab se so rahi hai
Aur kitna karun sabar main
Jeet ki na koi khabar hai..!

Source link

Leave a Comment

close