Sab Kuch Khaak Hua Hai Lekin Chehara Kya Noorani Hai

Sab Kuch Khaak Hua Hai Lekin

Sab kuch khaak hua hai lekin chehra kya noorani hai

Patthar neeche baith gaya hai, oopar bahta paani hai

Bachpan se meri aadat hai phool chhupa kar rakhta hoon

Haathon me jalta sooraj hai, dil me raat ki rani hai

Dafan hue raaton ke kisse ik chahat ki khamoshi hai

Sannaton ki chaadar odhe ye deewar puraani hai

Usko pa kar itraaoge, kho kar jaan gawa doge

Baadal ka saaya hai duniya, har shai aani jaani hai

Dil apna ik chaand nagar hai, achhi soorat waalon ka

Shahar me aa kar shayad humko ye jaagir gawaani hai

Tere badan pe main phoolon se us lamhe ka naam likhoon

Jis lamhe ka main afsaana, tu bhi ek kahani hai

सब कुछ खाक हुआ है लेकिन चेहरा क्या नूरानी है

पत्थर नीचे बैठ गया है, ऊपर बहता पानी है

बचपन से मेरी आदत है फूल छुपा कर रखता हूं

हाथों में जलता सूरज है, दिल में रात की रानी है

दफ़न हुए रातों के किस्से इक चाहत की खामोशी है

सन्नाटों की चादर ओढे ये दीवार पुरानी है

उसको पा कर इतराओगे, खो कर जान गंवा दोगे

बादल का साया है दुनिया, हर शै आनी जानी है

दिल अपना इक चांद नगर है, अच्छी सूरत वालों का

शहर में आ कर शायद हमको ये जागीर गंवानी है

तेरे बदन पे मैं फ़ूलों से उस लम्हे का नाम लिखूं

जिस लम्हे का मैं अफ़साना, तू भी एक कहानी है

Written By:

Bashir Badr

Leave a Comment

close