Sach Manu Ya Fareb Lyrics – Anirudh Kaushal

सच मानु या फरेब

कुरबान मैं होके तुझे
तस्वीरों में क्यूँ ढूंढ रहा
तन्हा सी है यादें तेरी
क्यूँ बेवजाह मैं तुमसे मिला

इन लम्हों को सच मानु फरेब
तू बता दे मैं तो खुदा से परे

सजा दी तूने कुछ इस तराह
ले गया तू कहाँ मुझे
ए कुछ तो बता

क़यामत भी रूठ गयी
क्यूँ उसे भी नहीं हुआ यकीन जैसे

सच मानु या फरेब
सच मानु या फरेब

अरमान दिल के
दिल में ही रेह गए
लफ्ज दबे से
होठों पे रेह गए

तेरी आहटें हो रही है
तेरी चाहतें हो रही है
जुदाई तेरी कैसे सहे

सजा दी तूने कुछ इस तराह
ले गया तू कहाँ मुझे
ए कुछ तो बता

क़यामत भी रूठ गयी
की उसे भी नहीं हुआ यकीन जैसे

सच मानु या फरेब
सच मानु या फरेब.

Sach manu ya fareb

Kurbaan main hoke tujhe
Tasveeron mein kyun dhoond raha
Tanha si hai yaadein teri
Kyun bewajah main tumse mila

In lamhon ko sach manu fareb
Tu bata de main toh khud se pare

Saja di tune kuch is tarah
Le gaya tu kahan mujhe
Ae kuch toh bata

Qayamat bhi rooth gayi
Kyun use bhi nahi hua yakeen jaise

Sach manu ya fareb
Sach manu ya fareb

Armaan dil ke
Dil mein hi reh gaye
Lafz dabe se
Hothon pe reh gaye

Teri aahtein ho rahi hai
Teri chahtein ho rahi hai
Judaai teri kaise sahe

Saja di tune kuch is tarah
Le gaya tu kahan mujhe
Ae kuch toh bata

Qayamat bhi rooth gayi
Kyun use bhi nahi hua yakeen jaise

Sach manu ya fareb
Sach manu ya fareb.

Source link

Leave a Comment

close