Shabnam Ke Aansoo Phool Par Ye To Wahi Kissa Hua – Bashir Badr

Shabnam Ke Aansoo Phool Par

Shabnam ke aansoo phool par ye to wahi kissa hua

Aankhe’n meri bheegi hui chehara tera utra hua

Ab in dinon meri ghazal khushboo ki ik tasveer hai

Har lafz gunche ki tarah khilkar tera chehara hua

Mandir gaye maszid gaye peeron faqeeron se mile

Ik us ko paane ke liye kya kya kiya kya kya hua

Shayad ise bhi le gaye achhe dinon ke kaafile

Is baag me ik phool tha teri tarah hansta hua

Anmol moti pyar ke, duniya chura ke le gayi

Dil ki haweli ka koi darwaaza tha toota hua

शबनम के आँसू फूल पर ये तो वही क़िस्सा हुआ

आँखें मेरी भीगी हुईं चेहरा तेरा उतरा हुआ

अब इन दिनों मेरी ग़ज़ल ख़ुश्बू की इक तस्वीर है

हर लफ़्ज़ गुंचे की तरह खिल कर तेरा चेहरा हुआ

मंदिर गये मस्जिद गये पीरों फ़कीरों से मिले

इक उस को पाने के लिये क्या क्या किया क्या क्या हुआ

शायद इसे भी ले गये अच्छे दिनों के क़ाफ़िले

इस बाग़ में इक फूल था तेरी तरह हँसता हुआ

अनमोल मोती प्यार के, दुनिया चुरा के ले गई

दिल की हवेली का कोई दरवाज़ा था टूटा हुआ

Written By:

Bashir Badr

Leave a Comment

close