Shiddat Lyrics- Deb – Ft. Deb, Neha Malik

अधूरा रहा तेरे बिना
तुमसे जुदा हूँ
फिर भी जुडा

अधूरा रहा तेरे बिना
तुमसे जुदा हूँ
फिर भी जुडा

रात दिन बेवजह
पागलों की तरहा
तुझको चाहता रहा

कितनी शिद्दत से माँगा
कितनी शिद्दत से माँगा
जाने बस मेरा ही खुदा
मेरा ही खुदा

मेरे दिल के शेहेर में
दो पल भी ना रुका तू
गुज़रा है मौसम की तरहा

कैसे कहूँ
कैसे कहूँ की तुम हो क्या
कोई नहीं
कोई नहीं तेरे सिवा

गीतों में रागों में
मैंने इन हाथों में
तुझको लकीरों सा लिखा

तुम को भुला ना पाऊँ
खुद को मिटा ना पाऊँ
कैसी है कैसी है सजा

रात दिन बेवजह
पागलों की तरहा
तुझको चाहता रहा

कितनी शिद्दत से माँगा
कितनी शिद्दत से माँगा
जाने बस मेरा ही खुदा
मेरा ही खुदा

मेरे दिल के शेहेर में
दो पल भी ना रुका तू
गुज़रा है मौसम की तरहा

अधूरा रहा तेरे बिना
तुमसे जुदा हूँ
फिर भी जुडा
अधूरा रहा तेरे बिना.

Adhura raha tere bina
Tumse judda hoon
Phir bhi juda

Adhura raha tere bina
Tumse judda hoon
Phir bhi juda

Raat din bewajah
Pagalon ki tarah
Tujhko chahta raha

Kitni shiddat se maanga
Kitni shiddat se maanga
Jaane bas mera hi khuda
Mera hi khuda

Mere dil ke sheher mein
Do pal bhi na ruka tu
Guzra hai mausam ki tarah

Kaise kahoon
Kaise kahoon ki tum ho kya
Koi nahi
Koi nahi tere siwa

Geeton mein raagon mein
Maine in haathon mein
Tujhko lakeeron sa likha

Tum ko bhula na paun
Khud ko mita na paun
Kaisi hai kaisi hai saza

Raat din bewajah
Pagalon ki tarah
Tujhko chahta raha

Kitni shiddat se maanga
Kitni shiddat se maanga
Jaane bas mera hi khuda
Mera hi khuda

Mere dil ke sheher mein
Do pal bhi na ruka tu
Guzra hai mausam ki tarah

Adhura raha tere bina
Tumse judda hoon
Phir bhi juda
Adhura raha tere bina.

Source link

Leave a Comment

close