Shiv Sama Rahe Lyrics शिव समा रहे – Hansraj Raghuwanshi

ॐ नमः शिवाय
ॐ नमः शिवाय

शिव समा रहे मुझमे
और मैं शून्य हो रहा हूँ
शिव समा रहे मुझमे
और मैं शून्य हो रहा हूँ

क्रोध को लोभ को
क्रोध को लोभ को
मैं भस्म कर रहा हूँ

शिव समा रहे मुझमे
और मैं शून्य हो रहा हूँ
ॐ नमः शिवाय

शिव समा रहे मुझमे
और मैं शून्य हो रहा हूँ
ॐ नमः शिवाय

ब्रह्म मुरारी सुराचित लिंगम
निर्मल भासीत सोभित लिंगम
जनमज दुख विनाशका लिंगम
तत प्रणामामि सदाशिव लिंगम

ब्रह्म मुरारी सुराचित लिंगम
निर्मल भासीत सोभित लिंगम
जनमज दुख विनाशका लिंगम
तत प्रणामामि सदाशिव लिंगम

तेरी बनाई दुनिया में
कोई तुझसा मिला नहीं
मैं तो भटका दरबदर
कोई किनारा मिला नहीं

जितना पास तुझको पाया
उतना खुद से दूर जा रहा हूँ

शिव समा रहे मुझमे
और मैं शून्य हो रहा हूँ
ॐ नमः शिवाय

शिव समा रहे मुझमे
और मैं शून्य हो रहा हूँ
ॐ नमः शिवाय

मैं खुद को खुद ही बंधा
अपनी खींची लकीरों में
मैं लिपट चुका था
इछा की जंजीरों में

अनंत की गेहराइयों में
समय से दूर हो रहा हूँ
शिव प्राणों में उतर रहे
और मैं मुक्त हो रहा हों

शिव समा रहे मुझमे
और मैं शून्य हो रहा हूँ

वो सुबह की पेहली किरण में
वो कस्तूरी वन के हिरण में
मेघो में गरजे गूँजे गगन में
रमता जोगी रमता गगन में

वो ही वायु में वो ही आयु में
वो जिस्म में वो ही रूह में
वो ही छाया में वो ही धूप में
वो ही हैं हर एक रूप में
ओ भोले ओ

क्रोध को लोभ को
क्रोध को लोभ को
मैं भस्म कर रहा हूँ

शिव समा रहे मुझमे
और मैं शून्य हो रहा हूँ
ॐ नमः शिवाय

शिव समा रहे मुझमे
और मैं शून्य हो रहा हूँ
ॐ नमः शिवाय

शिव समा रहे मुझमे
और मैं शून्य हो रहा हूँ
ॐ नमः शिवाय.

Om namah shivay
Om namah shivay

Shiv sama rahe mujhme
Aur main shunya ho raha hoon
Shiv sama rahe mujhme
Aur main shunya ho raha hoon

Krodh ko lobh ko
Krodh ko lobh ko
Main bhasm kar raha hoon

Shiv sama rahe mujhme
Aur main shunya ho raha hoon
Om namah shivay

Shiv sama rahe mujhme
Aur main shunya ho raha hoon
Om namah shivay

Brahma murari surarchita lingam
Nirmala bhasita sobhita lingam
Janmaja dukha vinasaka lingam
Tat pranamami sadashiva lingam

Brahma murari surarchita lingam
Nirmala bhasita sobhita lingam
Janmaja dukha vinasaka lingam
Tat pranamami sadashiva lingam

Teri banai duniya mein
Koyi tujh sa mila nahi
Main toh bhatka darbadar
Koyi kinara mila nahi

Jitna paas tujhko paya
Utna khud se door ja raha hoon

Shiv sama rahe mujhme
Aur main shunya ho raha hoon
Om namah shivay

Shiv sama rahe mujhme
Aur main shunya ho raha hoon
Om namah shivay

Maine khud ko khud hi bandha
Apni khinchi lakeeron mein
Main lipat chuka tha
Ichha ki zanjeeron mein

Anant ki gehraiyon mein
Samay se door ho raha hoon
Shiv pranon mein utar rahe
Aur main mukt ho raha hoon

Shiv sama rahe mujhme
Aur main shunya ho raha hoon

Woh subah ki pehli kiran mein
Woh kastoori van ke hiran mein
Megho mein garje goonje gagan mein
Ramta jogi, ramta gagan mein

Woh hi vayu mein woh hi aayu mein
Woh jism mein woh hi rooh mein
Woh hi chhaya mein woh hi dhoop mein
Woh hi hain har ek roop mein
Oh bhole oh

Krodh ko lobh ko
Krodh ko lobh ko
Main bhasm kar raha hoon

Shiv sama rahe mujhme
Aur main shunya ho raha hoon
Om namah shivay

Shiv sama rahe mujhme
Aur main shunya ho raha hoon
Om namah shivay.

Source link

Leave a Comment