Tere Jism 4 Lyrics – Satyakam Mishra

तेरी आहटें सोने ना दे
मुझे होश में होने ना दे
तेरी आहटें सोने ना दे
मुझे होश में होने ना दे

कैसा नशा है ये इस रात में
बहने लगे हम तेरे जज़्बात में
छूके तेरे लबो को फिर से खिला दो
छूके तेरे लबो को फिर से खिला दो
अपने जिस्म के दरमियाँ तुझमे मिलादू

तेरी आहटें सोने ना दे
मुझे होश में होने ना दे
कैसा नशा है ये इस रात में
बहने लगे हम तेरे जज़्बात में
जज़्बात में

बेताब हूँ मैं तू भी होजा बेहया
ले लूँ मैं तुझसे वो जो तूझमे रेह गया
बेताब हूँ मैं तू भी होजा बेहया
ले लूँ मैं तुझसे वो जो तूझमे रेह गया
आहटें तेरी कुछ तो बया कर रही
तुझको बना लू अपना मैं तो साक़िया

सारी हदों अब तो टूट जाने दो
सारी हदों को टूट जाने दो
रोको मुझे ना हद से गुज़र जाने दो
गुज़र जाने दो

तेरी आहटें सोने ना दे
मुझे होश मैं होने ना दे
कैसा नशा है ये इस रात में
बहने लगे हम तेरे जज़्बात में

तेरी आहटें सोने ना दे
मुझे होश मैं होने ना दे
कैसा नशा है ये इस रात में
बहने लगे हम तेरे जज़्बात में
जज़्बात में
जज़्बात में

Teri aahatein sone na de
Mujhe hosh mein hone na de
Teri aahatein sone na de
Mujhe hosh mein hone na de

Kaisa nasha hai ye is raat mein
Bahene lage hum tere jazbaat mein
Chooke tere labon ko phir se khila do
Chooke tere labon ko phir se khila do
Apne jism ke darmiyaan tujhme mila du

Teri aahatein sone na de
Mujhe hosh mein hone na de
Kaisa nasha hai ye is raat mein
Bahene lage hum tere jazbaat mein
Jazbaat mein

Betab hoon main tu bhi hoja behaya
Le loon main tujhse woh jo tujhme reh gaya
Betab hoon main tu bhi hoja behaya
Le loon main tujhse woh jo tujhme reh gaya
Aahatein teri kuch toh bayan kar rahi
Tujhko bana lu apna main toh saqiya

Saari hadon ko ab toh toot jaane do
Saari hadon ko toot jaane do
Roko mujhe na hadd se guzar jaane do
Guzar jaane do

Teri aahatein sone na de
Mujhe hosh mein hone na de
Kaisa nasha hai ye is raat mein
Bahene lage hum tere jazbaat mein

Teri aahatein sone na de
Mujhe hosh mein hone na de
Kaisa nasha hai ye is raat mein
Bahene lage hum tere jazbaat mein
Jazbaat mein
Jazbaat mein.

Source link

Leave a Comment

close