Tujhse Naraz Nahi Zindagi Song Lyrics – Masoom, तुझसे नाराज़ नहीं ज़िन्दगी

Tujhse Naraz Nahi Zindagi Song Lyrics
Pic Credit: Shemaroo Filmi Gaane (YouTube)

Tujhse Naraz Nahi Zindagi Song Lyrics penned by Gulzar, music composed by RD Burman, and sung by Anup Ghoshal from Bollywood classical ‘MASOOM‘.

Tujhse Naraz Nahi Zindagi Song Credits

Movie Masoom (22 October 1983)
Director Shekhar Kapoor
Producers Devi Dutt, Chanda Dutt
Singer Anup Ghoshal
Music R D Burman
Lyrics Gulzar
Star Cast Naseeruddin Shah, Shabana Azmi, Tanuja
Music Label

Tujhse Naraz Nahi Zindagi Song Lyrics in English

Tujhse Naraz Nahin Zindagi
Hairan Hoon Main
O Oh, Hairan Hoon Main
Tere Masoom Sawalon Se
Pareshaan Hoon Main
O Pareshaan Hoon Main

Tujhse Naraz Nahin Zindagi
Hairan Hoon Main
O Oh, Hairan Hoon Main
Tere Masoom Sawaalon Se
Pareshaan Hoon Main
O Pareshaan Hoon Main

Jeene Ke Liye… Socha Hi Nahi
Dard Sambhalne Honge
Jeene Ke Liye… Socha Hi Nahi
Dard Sambhalne Honge

Muskuraaye To… Muskuraane Ke
Karz Utaarne Honge
Ho, Muskuraun Kabhi… To Lagata Hai
Jaise Hothon Pe… Karz Rakha Hai

Tujhse Naraz Nahin Zindagi
Hairan Hoon Main
Oo Hairan Hoon Main

Zindagi Tere… Gam Ne Hamein
Rishte Naye Samjhaaye
Zindagi Tere Gam Ne Hamein
Rishte Naye Samjhaye
Mile Jo Hamein… Dhoop Mein Mile
Chhao Ke Thande Saaye

Tujhse Naraz Nahin Zindagi
Hairan Hoon Main
Ho, Hairan Hoon Main

Aaj Agar Bhar Aayi Hain
Boondein Baras Jaayegi
Aaj Agar Bhar Aayi Hain
Boondein Baras Jaayegi

Kal Kya Pataa… Inke Liye
Aankhein Taras Jaayegi
Ho Jane Kab Ghoom Hua Kaha Khoya
Ek Ansoon Chhupake Rakha Tha

Ho, Tujhse Naraz Nahin Zindagi
Hairan Hoon Main
Ho Oo, Hairan Hoon Main

Tere Masoom Sawaalon Se
Pareshaan Hoon Main
Ho Pareshaan Hoon Main
Ho Pareshaan Hoon Main
Ho Pareshaan Hoon Main

Watch तुझसे नाराज़ नहीं ज़िन्दगी (Male) Video Song


Tujhse Naraz Nahi Zindagi Song Lyrics in Hindi

तुझसे नाराज़ नहीं ज़िन्दगी
हैरान हूँ मैं
हो ओ, हैरान हूँ मैं
तेरे मासूम सवालों से
परेशान हूँ मैं
हो ओ, परेशान हूँ मैं

तुझसे नाराज़ नहीं ज़िन्दगी
हैरान हूँ मैं
हो ओ, हैरान हूँ मैं
तेरे मासूम सवालों से
परेशान हूँ मैं
हो, परेशान हूँ मैं

जीने के लिए… सोचा ही नहीं
दर्द संभालने होंगे
जीने के लिए… सोचा ही नहीं
दर्द संभालने होंगे

मुस्कुरायें तो… मुस्कुराने के
कर्ज़ उतारने होंगे
हो, मुस्कुराऊँ कभी… तो लगता है
जैसे होठों पे कर्ज़ रखा है

हो, तुझसे नाराज़ नहीं ज़िंदगी
हैरान हूँ मैं… हो, हैरान हूँ मैं

ज़िंदगी तेरे… गम ने हमें
रिश्ते नए समझाये
ज़िंदगी तेरे… गम ने हमें
रिश्ते नए समझाये
मिले जो हमें… धूप में मिले
छाओं के ठंडे साये

तुझसे नाराज़ नहीं ज़िंदगी
हैरान हूँ मैं… हो, हैरान हूँ मैं

आज अगर… भर आई है
बूंदे बरस जाएंगी
आज अगर… भर आई है
बूंदे बरस जाएंगी

कल क्या पता… इनके लिए
आंखे तरस जाएंगी
हो ओ, जाने कब घूम हुआ… कहाँ खोया
एक आँसू छुपाके रखा था

हो, तुझसे नाराज़ नहीं ज़िंदगी
हैरान हूँ मैं… हो ओ, हैरान हूँ मैं
तेरे मासूम सवालों से
परेशान हूँ मैं… हो, परेशान हूँ मैं
हो परेशान हूँ मैं
हो परेशान हूँ मैं

Leave a Comment