वंशी के स्वर में | Vanshi Ke Swar Mein – Dr Kumar Vishvas

वंशी के स्वर में | जो आता है वो जाता है – डॉ कुमार विश्वास

Vanshi Ke Swar Mein Poetry, Written By Kumar Vishwas.

वंशी के स्वर में | Vanshi Ke Swar Mein

जो आता है वो जाता है

तू किसका शोक मनाता है

उस सूर्य-जयी, उस दिशा-पुरुष

से प्रहर चार रस सने बाद

छिन जाते सारे तारे पर

अम्बर कब शोक मनाता है

जो आता है वो जाता है

इच्छवाकु वंश, भारत प्रमाण

अज, रघु दिलिप, पुरुरवा प्राण

अज, रघु, दशरथ, पुरुरवा प्राण

जिस अजिर-बिहारे रामचन्द्र

लक्ष्मण, भरत, शत्रुघ्न संग

उर्वशियों की इच्छित समाधि

संरक्षण मांगे तनय गाधि

जिनके धनु की टंकार प्रबल

सुन कर कंपता था रावण-दल

वे जनक-सुता के चिर स्वामी

संतों के बहु-विध हितकामी

समरसता के वे विजय-केतु

साक्षी है अब तक है राम-सेतु

संतों पर नहीं सिरा जिनका

सागर पर नाम तिरा जिनका

सरयू के जल में ले समाधि

वह किसकी थाह लगाता है ?

जो आता है वो जाता है

तू किसका शोक मनाता है

जो आता है वो जाता है

दो माताओं के एक पूत

वात्सल्य भाव के अग्रदूत

जिनकी शिशुता अब तक प्रमेय

हर गोदी में, हर गेह-गेह

माखन-चोरी, दधि दान, रास

जिनसे परिभाषित रस-विलास

वे अमर प्रेम के यश गायक

वृषभानु कुमारी के नायक

रुक्मिणी के पति, कौन्तेय मित्र

वे महासमर के चिर-चरित्र

ब्रह्माण्ड दिखे जो मुँह खोलें

उपनिषद् सार गीता बोलें

यदुकुल की अथ-इति के प्रतीक

जिनकी वरेण्य है कृष्ण लीक

क्यों एक व्याध के तीरों में

वंशी का स्वर खो जाता है

जो आता है वो जाता है

तू किसका शोक मनाता है

जो आता है वो जाता है

यशदेह रही जीवित भू पर

हर भीम-भंयकर चला गया

सुकरात-अरस्तू बचे रहे

सम्राट सिकंदर चला गया

वंशी की तानें अमर हुईं

पर पाँचजन्य स्वर चला गया

चाणक्य अभी तक प्रासंगिक

पर शिष्य धुरंधर चला गया

अरिहंत-बुद्ध गृहत्यागी थे

पर धरा और अम्बर में हैं

रानी-महारानी चिह्न-शेष

मरतना माँ सबके स्वर में है

ना महल बचे प्रासाद बचे

पर भगत और आज़ाद बचे

बाबर-अकबर मिट जाते है

कबिरा फिर भी रह जाता है

जो आता है वो जाता है

तू किसका शोक मनाता है 

जो आता है वो जाता है

Jo aata hai wo jaata hai
Tu kiska shok manaata hai
Us soory-jayi, us disha-purush
Se prahar chaar ras sane baad
Chhin jaate saare taare par
Ambar kab shok manaata hai
Jo aata hai wo jaata hai

Ichchhavaaku vansh, bhaarat pramaan
Ajj, raghu dilip, puroorva praan
Ajj, raghu, dasharath, puroorva praan
Jis ajir-bihaare raamchandra
Lakshman, bharat, shatrughn sang
Urvashiyon ki ichchhit samaadhi
Sanrakshan maange tanay gaadhi
Jinke dhanu ki tankaar prabal
Sun kar kampta tha raavan-dal
Ve janak-suta ke chir swaami
Santon ke bahu-vidh hitkaami
Samarsata ke ve vijay-ketu
Saakshi hai ab tak hai raam-setu
Santon par nahin sira jinka
Saagar par naam tira jinka
Saryu ke jal mein le samaadhi
Vah kiski thaah lagaata hai ?
Jo aata hai wo jaata hai
Tu kiska shok manaata hai
Jo aata hai wo jaata hai

Do maataon ke ek poot
Vaatsaly bhaav ke agradoot
Jinki shishuta ab tak pramey
Har godi mein, har geh-geh
Maakhan-chori, dadhi daan, raas
Jinse paribhaashit ras-vilaas
Ve amar prem ke yash gaayak
Vrishbhaanu kumaari ke naayak
Rukmini ke pati, kaunti mitr
Ve mahaasamar ke chir-charitr
Brahmaand dikhe jo munh khole
Upnishad saar geeta bole
Yadukul ki ath-iti ke prateek
Jinki vareney hai krishn leek
Kyon ek vyaadh ke teeron mein
Vanshi ka swar kho jaata hai
Jo aata hai wo jaata hai
Tu kiska shok manaata hai
Jo aata hai wo jaata hai

Yashdeh rahi jeevit bhoo par
Har bhim-bhanykar chala gaya
Sukraat-arastoo bache rahe
Samraat sikandar chala gaya
Vanshi ki taanen amar huin
Par paanchjany swar chala gaya
Chanakya abhi tak praasangik
Par shishay dhurandhar chala gaya
Arihant-buddh grihtyaagi the
Par dhara aur ambar mein hain
Raani-maharaani chihn-shesh
Martana maa sabke swar mein hai
Na mahal bache prasaad bache
Par bhagat aur aazaad bache
Baabar-akbar mit jaate hai
Kabira phir bhi rah jaata hai
Jo aata hai wo jaata hai
Tu kiska shok manaata hai
Jo aata hai wo jaata hai

Written By:
Kumar Vishwas

Vanshi Ke Swar Mein Video

Leave a Comment