Ye Chandani Bhi Jin Ko Chhute Hue Darti Hai

Ye Chandani Bhi Jin Ko Chhute Hue Darti Hai Shayari has written by Bashir Badr.

Ye Chandani Bhi Jin Ko Chhute Hue Darti Hai

Ye chandani bhi jin ko chhute hue darti hai

Duniya unhi’n phoolo’n ko pairo’n se masalti hai

Shoharat ki bulandi bhi pal bhar ka tamaasha hai

Jis daal pe baithe ho wo toot bhi sakti hai

Lobaan me chingaari jaise koi rakh de

Yoon yaad teri shab bhar seene me sulagti hai

Aa jaata hai khud khinch kar dil seene se patari par

Jab raat ki sarhad se ik rel gujarti hai

Aansoo kabhi palkon par ta-der nahi rukte

Ud jaate hain ye panchhi jab shaakh lachakti hai

Khush rang parindon ke laut aane ke din aaye

Bichhade hue milte hai jab barf pighalti hai

ये चाँदनी भी जिन को छूते हुए डरती है

दुनिया उन्हीं फूलों को पैरों से मसलती है

शोहरत की बुलंदी भी पल भर का तमाशा है

जिस डाल पे बैठे हो वो टूट भी सकती है

लोबान में चिंगारी जैसे कोई रख दे

यूँ याद तेरी शब भर सीने में सुलगती है

आ जाता है ख़ुद खींच कर दिल सीने से पटरी पर

जब रात की सरहद से इक रेल गुज़रती है

आँसू कभी पलकों पर ता देर नहीं रुकते

उड़ जाते हैं ये पंछी जब शाख़ लचकती है

ख़ुश रंग परिंदों के लौट आने के दिन आये

बिछड़े हुए मिलते हैं जब बर्फ़ पिघलती है

Written By:

Bashir Badr

Leave a Comment

close